ये मेरे दोस्त मेरे खामोसी को मेरी कमजोरी मत सम्झना! – लभ कुमार यादव

ये मेरे दोस्त मेरे खामोसी को मेरी कमजोरी मत सम्झना!
अवाज तो मै पहले भी उठा सकता था तेरी बुरी कर्तुतो पे!!
ये मत सम्झना कि हम तेरी इन कर्तुतो से परिचित नही थे!!!
लेकिन मैने तुम्हे अपना समझ के गल्ती पे गल्ती करता रहा!!
और आज जब हमे यह यकिन हुआ कि तुम मुझे अपना नही बल्कि गैर समझते हो तो
हम निकल पडे है स्वराज कि पथ पर, अपनी स्वन्त्रता कि पथ पर !!!!
और हमे द्रिढ बिश्वास है कि चाहे तुम सारे नेपाल कि पुलिस लगा दो या मन चाहे तो पडोसी मुलुक से भी मन्ग्वाले कोइ भी इस मुवमेंत को नही रोक सकता, दुनिया कि कोइ ताकत मधेशी मुवमेंट का बाल बाका नही कर सकता !!!
मधेश स्वराज कि पथ पर चल पडा है और स्वराज कि गीत गा कर हि थमेगा!!!
यकिन नही तो अपनी पुरी दम लगा के देख लो,
वैसे तो तुम्हे मधेशियो कि शक्ती का पता चल हि गया होगा जब तुने पहली बार राउत जी को गिरफ्तार किया था!!!
मधेश विरो का भुमि है, क्षेत्रियो का भुमि है, जो अपना सर झुकाना नही जानता!!!
और फिर तुने वही गल्ती दुहरा कर अपने आप को, और अपनी लंगडा, बहरा और गुन्गा सरकार को कम्जॊर और शर्मसार किए हो नाकी गौरन्वित!!!
तेरी ये नौटंकी मधेशी मुवेमेंट को फिर से मजबूत करनेमे काम अयेगा!!!
मधेशी भईयो और बहनो जीत कि बिगुल बजायो, हम अपनी जीत के बहुत समीप है!!!
जय देश!! जय मधेश !!! जय देश !!! जय मधेश !!!