भोजपुरिया संस्कृति में प्रेम प्रतिक ‘सामा चकवा’

By Aanand Gupta सारा सृष्टि एगो प्रेम के डोरा में बन्धाइल बा । जेह दिन ई प्रेम रुपि डोरा टुट जाई ओह दिन सृष्टि के प्रलय निश्चित बा । मानव सभ्यता के शुरुवात से ही कवनो ना कवनो रुप में हमनी के समाज जे प्रेम के स्थान बा, जवना के … more